Atif Aslam - Pehli Dafa Lyrics | Song lyrics

Pehli Dafa Song - Atif Aslam Lyrics

Atif Aslam - Pehli Dafa Lyrics is most beautiful song. Pehli dafa song has crossed 140+ million views on youtube
Atif Aslam - Pehli Dafa Lyrics


Singer Atif Aslam


Atif Aslam - Pehli Dafa Lyrics


Dil kahe kahaaniyan pehli dafa
Armaano mein rawaniyan pehli dafa
Ho gaya begana main hosh se pehli dafa
Pyaar ko pehchana ehsaas hai yeh naya

Suna hai, suna hai..
Yeh rasm-e-wafa hai
Jo dil pe nasha hai
Woh pehli dafa hai (x2)

Kabhi dard si, kabhi zard si
Zindagi benaam thi
Kahin chahatein hui meherbaan
Haath badh ke thaamti

Ik woh nazar, ik woh nigaah
Rooh mein shaamil iss tarah
Ban gaya afsana ik baat se pehli dafa
Paa liya hai thikana
Baahon ki hai panaah


Suna hai, suna hai..
Yeh rasm-e-wafa hai
Jo dil pe nasha hai
Woh pehli dafa hai

Lage bewajah alfaaz jo
Woh zaroorat ho gaye
Taqdeer ke kuch faisley
Jo ganimat ho gaye

Badla hua har pal hai
Rehti khumari har jagah
Pyaar tha anjaana
Hua saath mein pehli dafa

Yeh asar ab jaana
Kya rang hai yeh chadha

Suna hai, suna hai
Yeh rasm-e-wafa hai
Jo dil pe nasha hai
Woh pehli dafa hai (x2)

End of  Atif Aslam - Pehli Dafa Lyrics



Hindi

दिल कहे कहानियाँ पहली दफ़ा
अरमानों में रवानियाँ पहली दफ़ा
हो गया बेगाना मैं होश से पहली दफ़ा
प्यार को पहचाना, एहसास है ये नया
सुना है, सुना है ये रस्म-ए-वफ़ा है
जो दिल पे नशा है, वो पहली दफ़ा है
सुना है, सुना है ये रस्म-ए-वफ़ा है
जो दिल पे नशा है, वो पहली दफ़ा है
कभी दर्द सी, कभी ज़र्द सी, ज़िन्दगी बेनाम थी
कहीं चाहतें हुई मेहरबाँ, हाथ बढ़ के थामती
एक वो नज़र, एक वो निगाह
रूह में शामिल इस तरह
बन गया अफ़साना एक बात से पहली दफ़ा
पा लिया है ठिकाना, बाहों की है पनाह
सुना है, सुना है ये रस्म-ए-वफ़ा है
जो दिल पे नशा है, वो पहली दफ़ा है
सुना है, सुना है (सुना है, सुना है)
ये रस्म-ए-वफ़ा है (ये रस्म-ए-वफ़ा है)
जो दिल पे नशा है (जो दिल पे नशा है)
वो पहली दफ़ा है (वो पहली दफ़ा है)
लगे बेवजह अल्फ़ाज़ जो वो ज़रूरत हो गए
तक़दीर के कुछ फ़ैसले जो गनीमत हो गए
बदला हुआ हर पल है, रहती खुमारी हर जगह
प्यार था अंजाना, हुआ साथ में पहली दफ़ा
ये असर अब जाना, क्या रंग है ये चढ़ा?
सुना है, सुना है, ये रस्म-ए-वफ़ा है
जो दिल पे नशा है, वो पहली दफ़ा है
सुना है, सुना है, रस्म-ए-वफ़ा है
जो दिल पे नशा है, वो पहली दफ़ा है

Post a comment

1 Comments